Blog Details Title

डॉ समरेंद्र कुमार: समरस समाज की सार्थकता

a डॉ समरेंद्र कुमार दिल्ली विश्वविद्यालय के श्याम लाल कॉलेज में हिंदी विभाग में  अपनी सेवाएं दे रहे हैं| स्वभाव से बेहद शांत और  और समाज की समरसता के आधार पर जीवन जीने की सच्चाई दूसरों को सिखाते हुए समरेंद्र जी से बातचीत हुई तो उन्होंने एक बात कही समाज में इतनी नाराजगी गुस्सा और  नफरत लेकर चलता है जो लोग आखिर में अपने व्यवहार में उन बातों को नहीं ला सकते जो वह मुख जबानी क हते हैं |लोगों के जीवन में दोगलापन है लोग कहते कुछ और है और व्यावहारिक स्तर पर कुछ और है इस बात से समरेंद्र जी को बहुत आपत्ति है और वह इसी को का समाज में इस लड़ाई झगड़े का कारण भी मानते हैं| दोगलापन लोग दो मुंह वाले नेता ऐसे लोगों ने अपने निजी फायदे के लिए समाज में किसी भी हद तक गिरने का काम किया है | जिन लोग अपने व्यवहार में सच्चाई और ईमानदारी का प्रदर्शन करने लगेंगे समाज में उस दिन समाज में घृणा नफरत वैमनस्य हत्या चोरी डकैती और सारे अमानवीय व्यवहार रुक जाएंगे| समाज की शांति समरसता में है और अपने निजी जीवन में चित्र धैर्य से और समझदारी से व्यापार करें उतना ही अधिक हम समाज को सही मायने में आगे बढ़ा पाएंगे|

 समरेंद्र कुमार विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा का स्रोत है क्योंकि अभी इस लोक डाउन के दौरान उन्होंने अपना एक नया यूट्यूब चैनल शुरू किया सजन हिंदी संसार https://www.youtube.com/results?search_query=hindi+srijan+sansar+  बहुत थोड़े समय में शुरू करें किए गए यूट्यूब चैनल में 400 से ज्यादा सब्सक्राइबर पा लेने का मतलब है डॉक्टर शैलेंद्र कुमार का दिल्ली विश्वविद्यालय के बुद्धिजीवियों में कितना सम्मान है|

दिल्ली विश्वविद्यालय में रीतिकाल के विषय पर शोध करने के बाद रामजस कॉलेज में पढ़ाई और हिंदी विभाग से पीएचडी करने के बाद अमरेंद्र कुमार 1998 श्याम लाल कॉलेज  में अपनी सेवाएं अनवरत दे रहे हैं 2015 से 19 के बीच में एकेडमिक काउंसिल मेंबर रहे हैं जो कि एक दिल्ली विश्वविद्यालय की कार्य प्रणाली को दुरुस्त करने की एक सशक्त संस्था है|

जीवन की समरसता को अपने जीवन का एक हिस्सा मानते हुए जहां तक वह समाज का कुछ भला कर सके  बस यही प्रयास करने का काम करते हैं डॉक्टर समरेंद्र कुमार| क्योंकि समाज की आपस में शांति  सद्भावना और एक दूसरे के प्रति सम्मान सबसे महत्वपूर्ण है और इससे सबसे बड़ी बात यह है कि अगर सम्मान अगर समाज क्रियात्मक ढंग से काम करता है तो उसे समाज में हर व्यक्ति को आगे बढ़ने का पूर्ण अवसर मिलता है | डॉ समरेंद्र कुमार उन लोगों के लिए एक उदाहरण है किस तरह से धैर्य परिश्रम और सादगी से जीवन की गरिमा को बढ़ाया जा सकता है लोग उसी व्यक्ति को सम्मान करते हैं जिसके निजी व सार्वजनिक जीवन में सच्चाई दिखती है डॉ सुरेंद्र कुमार का व्यक्तित्व उन लोगों के मुंह पर एक बड़ा  तमाचा है जो झटपट और फटफट परिणामों को अपने पक्ष में करने में सारा गलत सही काम कर बैठते हैं|

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः| सर्वे सन्तु निरामयाः ।सर्वे भद्राणि पश्यन्तुमा कश्चिद्दुःखभाग्भवेत् ।ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

  • Related Tags:

Leave a comment