Blog Details Title

धन्यवाद तो बनता हे तुमको

धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
तुमने मुज़ से दगा किया
धन्यवाद तो बनता है तुमको।
मेरा वजूद नकार दिया।
जो तुमने मुजे करार तमाचाआ दिया
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो तुमने मुजे दुतकार दिया
धन्यवाद तो बनता है तुमको ।
जो तुमने मुजे फटकारा दिया
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो तुमने मुजे छोड़ दिया
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो मेरा वजूद ख़त्म किया
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो मुजे मेरी औकात दिखा दी
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो तुमने मेरी नींद उड़ा दी
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो तुमने मुझ से काम लिया फिर मुजे 
भगा दिया।
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो जीत तुम्हारी ओर हार मेरी बना दिया
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
मुजे नकारा निक्कमा कह दिया
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो तुम ने कहा क्या है मुझ में?
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो तुम दूसरो पर इतने लट्टू होगये
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
मुज पर जो इतना बरसे
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
तुम्हारे साथियॉ ने क्या बुरा नही किया मेरे साथ
धन्यवाद तो बनता है तुमको ।
जो मुजे मिटाने चले
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो हम हमेशा रोये
धन्यवाद तो बनता हेतुमको ।
जो कुछ गिनती में ही नही आये
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
जो हमको इस्तेमाल किया
धन्यवाद तो बनता हेतुमको ।
मेरी दशकों की मेहनत ख़या8 गए तुम
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
अपनी पर उतर आए तुम
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
हमको पैर की जूती समाज
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
ज़िल्लत दिखा दी
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
गलतियां गिना दी
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
सड़क पर ला दिया
धन्यवाद तो बनता हेतुमको ।
कुचल कर फेंक दिया
धन्यवाद तो बनता हैतुमको ।
खा या पिया चल दिये
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
लात घूँसे मार क्या नही दिया
धन्यवाद तो बनता हे तुमको ।
तड़पने के लिए छोड़ दिया
धन्यवाद तो बनता हेतुमको ।
सारा फायदा ले गए
क्यों कि इन सब से
खुद की इज्जत करना सीखें
खुद में जांकने को मिला
हम खुद को ही पकड़ने लगे
खुद को खुश रखना सीखा
अपना दुनिया खुद बने
खुद को सम्भलना सीखा
अपना आशिया बनाया
अपनी गलतियां सुधारी
अब हसी होंठो पर हर पल है
दूसरो से बेहतर है
सिर का ताज बने है
तुम्हारी इन हरकतों ने मुजे
खुद में जांकने का रास्ता दिया
खुद का दिया खुद बना दिया
मेरे अंदर का हुनर जगा दिया
आत्मविश्वास से लबरेज़ कर दिया
इंसान से फौलाद बना दिया
खुद पर विश्वास करना सीखा दिया
इंसानो को समझना सीखा दिया।
अपने जीने का मकसद समजा दिया।
एक बूंद से समंदर बना दिया।
करोडो में एक बना दिया
इतना साहस की कल्पना तो क्या।
अदम्य उद्दमी बना दिया।
धन्यवाद तो बनता है तुमको
  • Related Tags:

Leave a comment